Sunday, October 17, 2021
Homeअखिलेश सरकार जाने पर IAS बी चंद्रकला ने लिया था बड़ा फैसला,...
Array

अखिलेश सरकार जाने पर IAS बी चंद्रकला ने लिया था बड़ा फैसला, वजह में छिपे कई सवाल

  • CN24NEWS-08/01/2019
  • खनन घोटाले के आरोपों में घिरी आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला इन दिनों काफी चर्चा में हैं। हालांकि इस बार वह अपनी किसी सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर सुर्खियों में नहीं हैं, बल्कि सीबीआई की छापेमारी से चर्चा में आई हैं। खास बात यह है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को लेकर सुर्खियों बटोरने वाली आईएएस बी चंद्रकला अब खुद भ्रष्टाचार में घिरती नजर आ रही हैं। पिछले दिनों एक सवाल बहुत चर्चा में रहा कि यूपी में अखिलेश सरकार के बाद योगी सरकार आते ही बी चंद्रकला ने अपने तबादले की कवायद शुरू कर दी थी।

बता दें कि आईएएस बी चंद्रकला समाजवादी पार्टी की अखिलेश यादव सरकार में हमीरपुर, बुलंदशहर, मेरठ सहित पांच प्रमुख जिलों में डीएम रहीं थी। सवाल यह है कि प्रदेश में नई सरकार आते ही उन्होंने दिल्ली में प्रतिनियुक्ति मांग ली थी।वहीं आईएएस बी चंद्रकला का 31-03-2017 को मेरठ से दिल्ली में तबादला हो गया था। वहां उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन की निदेशक का पद संभाला था। इसके बाद वह साध्वी निरंजन ज्योति की निजी सचिव बनीं।उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार बनने के बाद बी चंद्रकला के दिल्ली में काम करने का फैसला लेने की काफी चर्चा रही थी। हालांकि 2018 में फिर से बी चंद्रकला यूपी लौटीं। माध्यमिक शिक्षा विभाग में विशेष सचिव का चार्ज लेने के बाद ही वह स्टडी लीव (अध्ययन अवकाश) पर चली गईं।

आईएएस बी चंद्रकला पर लगे ये आरोप
बताया गया कि बिजनौर और हमीरपुर में डीएम रहते चंद्रकला पर कई आरोप लगे। बी चंद्रकला पर हमीरपुर में सपा एमएलसी सहित कुल 10 लोगों के साथ मिलकर अवैध खनन के सौदों का आरोप है।

बिजनौर में उनके कार्यकाल के दौरान जिले में कोई पट्टे तो नहीं काटे गए, लेकिन अवैध खनन बंद नहीं हुआ था। नजीबाबाद, नगीना, कालागढ़ समेत जिले में जितनी भी नदियां हैं, उनमें लगातार खनन चलता रहा।बताया गया कि रात में खनन चलता था और सपा से जुड़े लोगों पर आरोप लगते रहे। लोग शिकायतें करते और आरोप लगाते रहे कि अवैध खनन को अफसरों की शह है, लेकिन इसके बाद भी अवैध खनन बंद नहीं हुआ और सवाल उठते रहे। रात में धड़ल्ले से खनन होता था।इसके अलावा सहसपुर स्थित एक बंद पड़े मीट प्लांट को चलवाने का मामला भी सुर्खियों में रहा था। पूर्व विधायक लोकेश चौहान ने इसे बंद कराया था। इसे चलवाने में भी डीएम बी चंद्रकला पर उंगलियां उठी थीं।

वहीं इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर जांच में जुटी सीबीआई ने पांच जनवरी को बी चंद्रकला के अलावा अन्य आरोपियों के ठिकानों पर छापेमारी की।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments