Friday, December 3, 2021
Homeकरगिल: PAK के कब्जे में था ये भारतीय पायलट, 8 दिन बाद...
Array

करगिल: PAK के कब्जे में था ये भारतीय पायलट, 8 दिन बाद हुई वापसी

  • CN24NEWS-27/02/2019
  • पाकिस्तान ने आज दावा किया है कि उन्होंने दो भारतीय विमान मार गिराए और 2 पायलट गिरफ्तार कर लिए हैं. उसके दावों की सच्चाई की परख होनी बाकी है. वहीं 20 साल पहले कारगिल युद्ध के समय पाकिस्तान ने भारत के एक फाइटर पायलट को गिरफ्तार करने में सफलता पाई थी. नाम था के. नचिकेता. नचिकेता के दुश्मन के चंगुल में फंसने और वापस सकुशल लौटने की कहानी दिलचस्प है.

     

    3 जून 1999 को कारगिल युद्ध के दौरान IAF के फाइटर पायलट के नचिकेता को भारतीय वायु सेना की ओर से चलाए गए ‘ऑपरेशन सफेद सागर’ में MIG 27 उड़ाने का काम सौंपा गया था. उस वक्त उनकी उम्र 26 साल थी. जहां नचिकेता ने दुश्मन के बिलकुल करीब जाकर 17 हजार फुट से रॉकेट दागे और दुश्मन के कैंप पर लाइव रॉकेट फायरिंग से हमला किया. लेकिन इसी बीच उनके विमान का इंजन खराब हो गया. जिसके बाद इंजन में आग लगने से MIG 27 क्रैश हो गया.

     

    नचिकेता विमान से सुरक्षित बाहर निकलने में तो सफल रहे लेकिन वे पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के पास स्कार्दू में फंस गए. पाकिस्तानी सौनिकों ने उन्हें अपने कब्जे में ले लिया था. जिसके बाद पाकिस्तान सेना ने उन्हें शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से टॉर्चर किया. पाकिस्तानी आर्मी उनसे भारतीय आर्मी की जानकारी निकालने की कोशिश कर रही थी, लेकिन उन्होंने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया.

     

    नचिकेता ने बताया कि उन्हें बुरी तरह पीटा जाता था. उनके प्लेन क्रैश की खबरें इंटरनेशनल मीडिया में रहीं. पाकिस्तान सरकार पर दबाव रहा और 8 दिन बाद पाकिस्तानी आर्मी ने नचिकेता को इंटरनेशनल कमेटी ऑफ द रेड क्रॉस को सौंपा. जिसके बाद नचिकेता को वाघा बॉर्डर के रास्ते भारत भेजा गया.

     

    तत्कालीन राष्ट्रपति के आर नारायणन और प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने जोरदार तरीके से उनका स्वागत किया. कारगिल युद्ध 26 जुलाई 1999 को खत्म हुआ.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments