Saturday, September 25, 2021
Homeन्यूजीलैंड / मस्जिदों में फायरिंग करने वाला टैरेंट खुद लड़ेगा अपना केस,...
Array

न्यूजीलैंड / मस्जिदों में फायरिंग करने वाला टैरेंट खुद लड़ेगा अपना केस, वकील को हटाया

  • CN24NEWS-18/03/2019
    • अल-नूर और लिनवुड मस्जिद में हुए हमले में 50 लोगो मारे गए थे
    • पहली पेशी में हत्यारे के बचाव के लिए सरकारी वकील साथ गए थे
  • वेलिंगटन. न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर हमला कर 50 लोगों की जान लेने के आरोपी ब्रेंटन टैरेंट ने अपने वकील को हटा दिया है। अब वह खुद अपना केस लड़ेगा। सरकार ने पहले औपचारिक तौर पर उसे बचाव के लिए वकील दिया था। लेकिन, रविवार को ही टैरेंट ने खुद कोर्ट के सामने बात रखने का फैसला किया।
  • टैरेंट की पहली पेशी में उसके साथ सरकारी वकील रिचर्ड पीटर्स भी मौजूद थे। हालांकि, सोमवार को पीटर्स ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि टैरेंट कोर्ट में खुद ही अपनी बात रखना चाहता है। इसी बीच कुछ संगठनों ने आशंका जताई है कि टैरेंट कटघरे का इस्तेमाल अपने अतिवादी विचारों को पेश करने के लिए भी कर सकता है।पहली पेशी में कोर्ट में हंस रहा था टैरेंट
    क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों अल-नूर और लिनवुड में शुक्रवार को दोपहर की नमाज के दौरान हमलावर ने अंधाधुंध गोलीबारी की थी, जिसमें 49 लोग मारे गए। इसमें बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी बाल-बाल बच गए थे। पुलिस ने शनिवार को जब आरोपी ब्रेंटन टैरेंट को पहली बार कोर्ट में पेश किया तो उसे हथकड़ी लगी हुई थी। पेशी के दौरान वह पूरे समय मुस्कुराता दिखा था। कुछ देर मीडिया की तरफ बनावटी हंसी में उसने सबकुछ ठीक होने का इशारा किया। टैरेंट ऑस्ट्रेलियन मूल का फिटनेस इंस्ट्रक्टर है। कोर्ट ने उसने खुद को फासिस्ट बताया और जमानत के लिए आग्रह भी नहीं किया।हथियार बेचने वाले स्टोर ने कहा- हमले में हमारी बंदूकें इस्तेमाल नहीं की गईं
    गोलीबारी के संदिग्ध टैरेंट को बंदूक बेचने वाले आर्म्स डीलर डेविड टिपल ने कहा है कि वह इस घटना के लिए कहीं से भी जिम्मेदार नहीं हैं। क्योंकि टैरेंट को लाइसेंस पुलिस ने जारी किए थे। हालांकि, टिपल ने कहा कि 50 लोगों को मारने में टैरेंट ने जो बंदूक इस्तेमाल कीं वह उनकी दुकान से नहीं खरीदी गई थीं। टिपल के मुताबिक, उन्होंने गोलीबारी का वीडियो देखा है। इसमें साफ है कि उसने मिलिट्री स्टाइल की कुछ सेमी-ऑटोमैटिक बंदूकें इस्तेमाल की जो उनके स्टोर से नहीं ली गई थीं।

    बताया गया है कि टैरेंट को बंदूक रखने के लिए नवंबर 2017 में ‘ए कैटेगरी’ लाइसेंस जारी किया गया था। इसके बाद उसने ऑनलाइन सेवाओं का इस्तेमाल कर गन सिटी फायरआर्म्स स्टोर से चार हथियार खरीदे थे। टिपल के मुताबिक, उनके पास टैरेंट की खरीददारी का पूरा रिकॉर्ड भी मौजूद है।
    बंदूक कानूनों में बदलाव होगा: प्रधानमंत्री
    न्यूजीलैंड में बंदूक खरीदने और रखने के कानून में 10 दिनों के अंदर बदलाव होगा। प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न पहले ही इस गंभीर घटना को देखते हुए गन कानून बदलने की बात कह चुकी थीं। इससे पहले 2005, 2012 और 2017 में न्यूजीलैंड में गन कानून को बदलने के प्रयास किया गया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments